शहीदों की याद में कलेक्ट्रेट परिसर में रखा गया दो मिनट का मौन

सोनभद्र। भारत के स्वतंत्रता संग्राम में अपने प्राणों की आहुति देने वाले शहीदों की याद में दो मिनट का मौन धारण किया गया।
अपर जिलाधिकारी राकेश सिंह व अपर जिलाधिकारी नमामि गंगे आशुतोष दूबे के संयुक्त अगुवाई में कलेक्ट्रेट परिसर में कलेक्ट्रेट के अधिकारियों व कर्मचारियों के साथ निर्धारित समय 11 बजे से सायरन बजाकर 2 मिनट तक मौन धारण रखा गया। इसके बाद फिर सायरन के आवाज के साथ ही मौन धारण का समापन किया गया। इस दौरान जनपद के समस्त विभागों में भी दो मिनट का मौन धारण किया गया। इसी प्रकार से जिले के सभी शैक्षिक संस्थाओ और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम के पदाधिकारी व कार्मिकगणों द्वारा मौन धारण में भाग लिया गया। इस अवसर पर स्वतंत्रता संग्राम और राष्ट्रीय एकता के बारे में वार्ताएं और भाषण हाइब्रिड मोड में आयोजित किये गये। इस दौरान शहीद दिवस को मनाते समय कोविड- 19 का ध्यान रखा गया था।

गीता का योग आत्मा को परमात्मा से मिलाने की कुंजी है

सोनभद्र। योग केवल आसन- व्यायाम भर नहीं है, योग आत्मा का परमात्मा से मेल कराने की विधि है। योग मानव जीवन का अभीष्ट प्राप्त करने की कुंजी है। गीता के अनुसार योग परम आराध्य तक की दूरी तय करने का साधन है। गीता जयंती के अवसर पर मंगलवार को राबर्ट्सगंज के जयप्रभा मंडपम में गीता जयंती समारोह समिति द्वारा "गीता में वर्णित योग" विषय पर आयोजित विचार गोष्ठी में वक्ताओं ने उक्त बातें कही। उन्होंने कहा कि शारीरिक आसन-व्यायाम स्वस्थ रहने के लिए बहुत ही आवश्यक हैं, लेकिन हमारे शास्त्रों में, गीता में मानव तन का उद्देश्य पाने के लिए जिस योग का वर्णन किया गया है वह कुछ और ही है और वही वास्तविक योग है। गोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए साहित्यकार अजय शेखर ने कहा कि मानव जीवन संघर्ष से भरा रहता है, गीता का योग उस संघर्ष से निकलने का पथ प्रशस्त करता है। यह आध्यात्म की राह है। स्वागत करते हुए कवि जगदीश पंथी ने धार्मिक भ्रांतियों के निवारण पर बल देते हुए कहा कि केवल योग ही नहीं अपितु कई ऐसे विषय हैं जहाँ परंपरा और आध्यात्म में भेद न कर पाने के कारण लोगों में भ्रम है। इसका निवारण यथार्थ गीता द्वारा संभव है। संयोजक डाक्टर बी सिंह ने कहा कि महर्षि पतंजलि ने गीता के योग का ही एक सरल स्वरूप प्रस्तुत किया। वास्तव में गीता का योग आत्मा को परमात्मा से मिलाने की कुंजी है। उन्होंने कहा कि पूरा का पूरा गीता आध्यात्म है।विषय प्रवर्तन करते हुए अरुण चौबे ने कहा कि गीता केवल आसन-व्यायाम भर नहीं हो सकता, यह केवल शरीर के पोषण तक नहीं हो सकता है। गीता के अनुसार जो संसार के संयोग- वियोग से रहित है उसी का नाम योग है। अनन्य भाव से एक परमात्मा की शरण में जाने का नाम योग है और इस योग का परिणाम अनामय, शाश्वत परमपद की प्राप्ति है। योगाचार्य सचिन तिवारी ने प्रचलित योग और आध्यात्मिक योग में सांमजस्य स्थापित करते हुए बहिरंग तथा अंतरंग योग की व्याख्या की। डाक्टर गोपाल सिंह ने गीता को जीवन शास्त्र बताते हुए इसे आचरण में लाने पर बल दिया। साहित्यकार पारसनाथ मिश्रा ने गीता में योग शब्द की विस्तृत व्याख्या की। उन्होंने कहा कि चित्त वृत्तियों का निरोध ही योग है। गोष्ठी में यथार्थ गीता के अविनाशी योग के प्रचार-प्रसार में लगे पाँच सख्शियतों के गीता जयंती समारोह समिति द्वारा सम्मानित किया गया। हंसवाहिनी इंटर कॉलेज कसया के प्रधानाचार्य उमाकांत मिश्र, उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के प्रदेश उपाध्यक्ष सत्यपाल जैन, आध्यात्मसेवी रामानुज पाठक, समाजसेवी राम सूरत पटेल तथा शिक्षक एवं पत्रकार विवेकानंद मिश्रा को शाल ओढ़ाकर तथा सम्मानपत्र देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर गोष्ठी के संयोजक डाक्टर कुसुमाकर ने असहाय गरीबों को कंबल वितरित किया। संचालन भोलानाथ मिश्रा ने किया। गोष्ठी में यथार्थ गीता के अर्थों में गीता को राष्ट्रीय धर्मशास्त्र घोषित करने के लिए केंद्र सरकार के लिए प्रस्ताव पारित किया गया। इस मौके पर प्रदीप जायसवाल, पियुष त्रिपाठी, कृपा शंकर चौबे, प्रमोद श्रीवास्तव, दिलीप तिवारी, राजेश चौबे, राजू तिवारी, गणेश पाठक, राम सूरत सिंह, बृजेश सिंह, धीरेन्द्र दूबे, आशुतोष कुमार आदि मौजूद रहे।

ओलंपिक में देश का मान बढ़ाने वाले सम्मानित

    गोल्ड जितने वाले नीरज चोपड़ा को दो करोड़
-
    अटल बिहारी बाजपेयी स्टेडियम में अन्य खिलाड़ी भी
पुरस्कृत लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने अटल बिहारी वाजपेयी स्टेडियम लखनऊ टोक्यो ओलंपिक में देश का मान बढ़ाने वाले खिलाड़ियों और अन्य खेल प्रतिभाओं का अभिवादन किया। ओलंपिक में गोल्ड जितने वाले नीरज चोपड़ा ने इस दौरान कहा कि मैं इस आयोजन के लिए सीएम योगी जी को धन्यवाद करता हूँ। इससे बाकी खिलाड़ियों को प्रोतसाहन मिलेगा। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने टोक्यो ओ​लंपिक में पदक विजेता नीरज चोपड़ा, रवि दहिया, पीवी सिंधु, लवलीना बोरगोहेन, बजरंग पुनिया और पुरुष हॉकी टीम को सम्मानित किया। उत्तर प्रदेश सरकार ने नीरज चोपड़ा को 2 करोड़, रवि दहिया को 1.5 करोड़, पीवी सिंधु को एक करोड़, लवलीना बोरगोहेन को एक करोड़, बजरंग पुनिया को एक करोड़ और पुरुष हॉकी टीम के सभी खिलाड़ियों को एक-एक करोड़ की पुरस्कार राशि से सम्मानित किया। खचाखच भरे स्टेडियम में राज्यपाल ने खिलाड़ियों की हौसला अफजाई की। वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि खिलाड़ियों ने भारत का गौरव पूरे विश्व में बढ़ाया है। यह हर्ष का विषय है। उत्तर प्रदेश सरकार खिलाड़ियों के बेहतर भविष्य के लिए भविष्य में और भी अच्छा कार्य करेगी। खिलाड़ियों को हर संभव सुविधाएं मुहैया कराएगी। इस दौरान जनसत्ता दल के अध्यक्ष राजा भैया समेत अन्य भारी संख्या में लोग मौजूद रहे।